नारायण राणे ने कहा- गुजरात से होकर गुजरता है विकसित भारत के निर्माण का रास्ता

11

गांधीनगरः वाइब्रेंट गुजरात समिट (Vibrant Gujarat Summit) के तीसरे दिन शुक्रवार को केंद्रीय एमएसएमई मंत्री नारायण राणे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र और गुजरात सरकार द्वारा एमएसएमई विकास के लिए लिए गए फैसले परिणामोन्मुखी साबित हुए हैं। उन्होंने कहा कि गुजरात एमएसएमई के माध्यम से देश में सबसे ज्यादा रोजगार देता है। ट्रांसपोर्ट और टेक्सटाइल सेक्टर में गुजरात उद्योगपतियों की पहली पसंद है। वर्ष 2047 तक विकसित भारत के निर्माण का रास्ता गुजरात से होकर गुजरता है। उन्होंने विश्वास जताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत एक महाशक्ति बनेगा।

छोटे उद्योगों को मिलेगा प्रोत्साहन

कार्यक्रम में बोलते हुए, मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण के अनुसार, वाइब्रेंट समिट का 10 वां संस्करण गांधीनगर तक सीमित नहीं है, बल्कि राज्य के जिलों तक विस्तारित किया गया है। इस वर्ष के वाइब्रेंट समिट में सरकार ने ‘वाइब्रेंट गुजरात वाइब्रेंट डिस्ट्रिक्ट’ को अपनाया है, जो राज्य में जिला और तहसील स्तर पर संचालित छोटे उद्योगों को प्रोत्साहन, विकास और विस्तार के लिए एक मंच प्रदान करने की प्रणाली है।

वाइब्रेंट गुजरात 2024 के तीसरे दिन शुक्रवार को एमएसएमई कॉन्क्लेव में देश भर के लघु, सूक्ष्म और सूक्ष्म उद्योग उद्यमियों, निवेशकों और नीति निर्माताओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दो दशकों के बाद जब आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं, तो हमारे पास ‘वोकल’ है। ‘लोकल’ के माध्यम से वाइब्रेंट समिट को वैश्विक मंच बनाने के साथ-साथ राज्य के छोटे उद्यमियों को विकसित करने के लिए एक स्थानीय मंच भी तैयार किया है।

समझौता ज्ञापन पर किए गए हस्ताक्षर

राज्य के उद्योग मंत्री बलवंत सिंह राजपूत ने कहा कि ई-कॉमर्स में तीसरे स्थान पर आकर गुजरात भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संकल्प और सपने को साकार करने के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि गुजरात के 16 लाख से अधिक छोटे उद्योगपति देश के निर्यात में विशेष योगदान दे रहे हैं।

वाइब्रेंट समिट के आखिरी दिन गृह एवं उद्योग राज्य मंत्री हर्ष सांघवी ने कहा कि एमएसएमई उद्योग गुजरात के दिल की तरह हैं। वाइब्रेंट गुजरात 2024 प्लेटफॉर्म में समाज के सभी वर्गों के लिए कुछ न कुछ है। वाइब्रेंट गुजरात से व्यापारिक घरानों को बड़ा मंच मिला है। ई-कॉमर्स में एमएसएमई ग्रामीण क्षेत्र के उद्योगों को आगे बढ़ाने के सशक्त माध्यम से एमएसएमई से सामाजिक क्षेत्र में बदलाव आया है।

यह भी पढ़ेंः-JN.1 वेरिएंट बन सकता है कोविड के बड़ी लहर की वजह, विशेषज्ञों ने जताई ये आशंका!

केंद्रीय एमएसएमई सचिव सुभाष चंद्र लाल दास, हेस्टर बायोसाइंसेज के सीईओ और एमडी राजीव गांधी, फिक्की के अध्यक्ष गिरीश लूथरा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। समारोह में नेमटेक के उमेश नायर और उद्योग आयुक्त संदीप सागले के बीच ‘क्रांतिकारी, सीखना और शिक्षा’ और सिडबी के प्रकाश कुमार और गुजरात सरकार के उद्योग आयुक्त संदीप सागले के बीच ‘मिशन स्वावलंबन’ पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)