भाजपा ने कोर्ट के आदेश को कहा- ममता सरकार को लगा तमाचा, टीएमसी ने किया पलटवार

कोलकाताः सरकारी कर्मचारियों का महंगाई भत्ता दिए देने सम्बंधी कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले पर भारतीय जनता पार्टी ने चुटकी ली है। प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा है कि हाई कोर्ट का फैसला ममता बनर्जी के चेहरे पर तमाचा है। हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने इस पर पलटवार किया है।

विधायक तापस राय ने कहा है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हमेशा ही सरकारी कर्मचारियों का ख्याल रखा है। दरअसल गुरुवार को हाईकोर्ट ने अपने निर्देश में कहा है कि सरकारी कर्मचारियों को महंगाई भत्ता देना ही होगा। राज्य सरकार की पुनर्विचार याचिका को खारिज करते हुए हाई कोर्ट ने यह आदेश दिया है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सुकांत मजूमदार ने कहा कि कोर्ट का तमाचा ममता के चेहरे पर पड़ा है। बंगाल सरकार खंडपीठ में गई थी और किसी भी तरह से सरकारी कर्मचारियों को उनका हक नहीं देना चाहती हैं। बंगाल में भ्रष्टाचार का ऐसा आलम है कि ममता बनर्जी अपने पसंदीदा क्लबों में रुपया बांटती है। अपने गुंडों को पैसे देती है, लेकिन सरकारी कर्मचारियों का महंगाई भत्ता केंद्रीय भत्ते के मुकाबले 31 फ़ीसदी कम है। सरकार को तुरंत अपना सारा खेल बंद कर सरकारी कर्मचारियों को महंगाई भत्ता देना चाहिए।

इस पर पलटवार करते हुए तापस रॉय ने कहा कि कभी भी पश्चिम बंगाल सरकार ने कर्मचारियों को महंगाई भत्ता नहीं देने की बात नहीं की है। ममता बनर्जी हमेशा से ही सरकारी कर्मचारियों के पक्ष में रही हैं। इसके पहले जब भी डीए देने की जरूरत पड़ी है उन्होंने दी है। फिलहाल मामला न्यायालय के विचाराधीन है इसीलिए हाईकोर्ट के ताजा आदेश पर बहुत कुछ नहीं बोलूंगा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)