product designing: प्रोडक्ट डिजाइनिंग से बनाएं परफेक्ट करियर, जानिए इसके बारे में

लखनऊः आधुनिकता और तकनीकी के इस दौर में व्यापार करना काफी आसान है। अगर आपके अंदर क्रिएटिविटी है और आप नए-नए आइडियाज इनोवेट कर सकते हैं, तो आप घर बैठे ही लाखों रूपए कमा सकते हैं। ऐसे में माहौल के अनुरूप ही यूनिवर्सिटीज ऐसे तमाम कोर्सेस भी कराने लगी हैं, जिसे करके आप लीक से हटकर काम करते हुए बेहतरीन करियर बना सकते हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं प्रोडक्ट डिजाइनिंग (product designing) की। यह औद्योगिक डिजाइनिंग का एक सबसेट है। सबसे खास बात यह है कि अगर आप क्रिएटिव हैं, तो आपको करियर काफी चमकदार होगा।

ये भी पढ़ें..Jharkhand: कांग्रेस के तीन विधायकों की गिरफ्तारी पर विधानसभा में हंगामा, भाजपा ने की बर्खास्गी की मांग

आज का जमाना पैकेजिंग का है यानी किसी भी प्रोडक्ट के टेस्ट और क्वॉलिटी के साथ-साथ उसकी डिजाइनिंग भी काफी अहम होनी चाहिए। इससे मार्केट में उस प्रोडक्ट की वैल्यू बढ़ जाती है और उसे सेल भी खूब होती है, ऐसे में कंपनियां अपने प्रोडक्ट की डिजाइनिंग (product designing) पर काफी ध्यान देती हैं। आज के समय में इस फील्ड में करियर बनाना बेहद आसान है। अगर प्रोडक्ट डिजाइनर के काम की बात करें तो प्रोडक्ट के प्रारंभिक डिजाइन आइडियाज को स्केच करना और उसके बाद क्लाइंट्स से मीटिंग करके उन सैंपल्स पर चर्चा करना होता है। इसके अलावा उन्हें लेटेस्ट डिजाइन ट्रेंड्स पर नजर रखनी होती है, जिससे किसी भी प्रोडक्ट की डिजाइनिंग बेहतर तरीके से कर सकें। इसके अलावा डिजाइनर का काम प्रोडक्ट की कमियों को ठीक करने के साथ-साथ उसकी हर छोटी-बड़ी डिटेल का ध्यान रखना होता है। वह प्रोडक्ट की सिक्योरिटी और उसकी मार्केट परफार्मेंस पर भी नजर रखते हैं।

ऐसे बना सकते हैं करियर

प्रोडक्ट डिजाइनिंग में करियर बनाने के लिए आपको 12वीं कक्षा के बाद डिप्लोमा व ग्रेजुएशन करना होता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन और कुछ आईआईटी जैसे संस्थान प्रोडक्ट डिजाइन/औद्योगिक डिजाइन में स्नातक की डिग्री प्रदान करते हैं। यहीं नहीं आप इंजीनियरिंग या आर्किटेक्चर कोर्स करने के बाद भारत के कई प्रतिष्ठित संस्थानों में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा या डिग्री कोर्स भी कर सकते हैं। यहां अलग-अलग तरीके की प्रवेश परीक्षाएं भी होती हैं।

करियर बनाने के यहां मिलेंगे मौके

यह एक उभरता हुआ करियर विकल्प है और यहां अवसरों की कोई कमी नही है। एक प्रोडक्ट डिजाइनर के लिए टेक्सटाइल इंडस्ट्री, डिजिटल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक्स इंडस्ट्री, फर्नीचर इंडस्ट्री, फूड एंड पैकेजिंग इंडस्ट्री आदि स्थानों पर भरपूर संभावनाएं हैं। इसके अलावा आप फ्रीलांस तौर पर भी काम करके अच्छी आमदनी कर सकते हैं। प्रोडक्ट डिजाइनर के तौर पर सैलरी का निर्धारण आपके काम के अनुभव और दक्षता के आधार पर ही होता है। अपने देश में प्रोडक्ट डिजाइनर की औसत सैलरी की बात करें तो सालाना पैकेज 4 लाख हो सकता है। इसके साथ ही अनुभव बढ़ने के साथ ही आपकी सैलरी में इजाफा होता रहता है।

प्रमुख संस्थान

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन
सिंबोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, पुणे
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बैंगलोर
सृष्टि इंस्टीट्यूट ऑफ आर्ट, डिजाइन एंड टेक्नोलॉजी, बैंगलोर
आईआईएलएम स्कूल ऑफ डिजाइन, गुरूग्राम
डीएसके इंटरनेशनल स्कूल ऑफ डिजाइन, पुणे

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)