Friday, June 14, 2024
spot_img
Homeबंगाललोकसभा चुनाव : दिलचस्प है हुगली लोकसभा सीट, देखें इसकी ग्राउंड रिपोर्ट

लोकसभा चुनाव : दिलचस्प है हुगली लोकसभा सीट, देखें इसकी ग्राउंड रिपोर्ट

Lok Sabha Elections, कोलकाताः लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद सियासी दंगल शुरू हो गया है। पश्चिम बंगाल में लड़ाई दिलचस्प है क्योंकि विपक्षी दलों के इंडी गठबंधन का हिस्सा होने के बावजूद, ममता बनर्जी ने सभी 42 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। इनमें हुगली लोकसभा सीट बेहद खास है। इस बार यहां दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है। इस सीट पर अभिनेत्री से नेता बनीं दो महिला उम्मीदवारों के बीच मुकाबला है, जिनमें से एक मौजूदा सांसद हैं और एक दशक से राजनीति में सक्रिय हैं और दूसरी अनुभवहीन हैं।

किस पार्टी से कौन है उम्मीदवार?

भाजपा ने मौजूदा हुगली सांसद लॉकेट चटर्जी को फिर से उम्मीदवार बनाया है, जबकि तृणमूल कांग्रेस ने अभिनेत्री से नेता बनी और लोकप्रिय रियलिटी शो “दीदी नंबर 1” की एंकर रचना बनर्जी को मैदान में उतारा है। दूसरी ओर, सीपीआई (एम) की युवा राज्य समिति के सदस्य और ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता मोनोदीप घोष भी मैदान में हैं, जो रचना बनर्जी की तरह पहली बार चुनावी राजनीति में उतरे हैं। घोष, जिनकी उम्र चालीस के बीच है, दो सेलिब्रिटी प्रतिस्पर्धियों के खिलाफ लड़ाई में जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। चुनाव अभियान शुरू होने से पहले, चटर्जी और बनर्जी दोनों ने इस बात पर जोर दिया कि चुनावी लड़ाई से उनके रिश्ते कभी खराब नहीं होंगे। दोनों ने एक साथ फिल्मों में भी काम किया है।

भौगोलिक एवं औद्योगिक स्थिति क्या है?

हुगली जिला पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के पास स्थित है। इसका नाम हुगली नदी के नाम पर रखा गया है। जिले का मुख्यालय हुगली-चिनसुराह (चुंचुरा) में है। इसके चार उपविभाग हैं – चिनसुराह सदर, श्रीरामपुर, चंदननगर और आरामबाग।

उपनिवेशीकरण से पहले हुगली शहर भारत में व्यापार के लिए एक प्रमुख नदी बंदरगाह था। भुरशुट के बंगाली साम्राज्य के हिस्से के रूप में जिले में हजारों साल की समृद्ध विरासत अभी भी मौजूद है। 2011 की जनगणना के अनुसार, हुगली जिले की जनसंख्या 55 लाख 19 हजार 145 है। यह मुख्य रूप से राज्य में जूट की खेती, जूट उद्योग और जूट व्यापार केंद्र है।

राजनीतिक इतिहास क्या है

1952 में जब पूरे देश में कांग्रेस की लहर थी, तब भी कांग्रेस का उम्मीदवार यहां से नहीं जीत सका। 1952 में एचएमएस के एनसी चटर्जी जीते। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उम्मीदवार को हराया। 1957 और 1962 में सीपीआई के प्रोवत कार ने जीत हासिल की। 1967 में, सीट पर सीपीआई (एम) ने कब्जा कर लिया और सीपीआई (एम) के बीके मोदक सांसद चुने गए। 1977 में भी सीपीआई (एम) के बीके मोदक दोबारा सांसद चुने गए।

1980 में सीपीआई (एम) के रूपचंद पाल विजयी रहे। 1984 में कांग्रेस की इंदुमती भट्टाचार्य ने यहां से चुनाव जीता था। इसके बाद सीपीआई (एम) ने वापसी की और 1989 में रूपचंद पाल सांसद चुने गए। रूपचंद पाल 1991, 1996 में सीपीआई (एम) उम्मीदवार के रूप में यहां से सांसद चुने गए। 1998, 1999 और 2004। 2009 में, अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार डॉ. रत्ना डे ने छह बार के सीपीआई (एम) नेता को हराया।

यह भी पढ़ेंः-Lok Sabha elections: उत्तर प्रदेश की इन आठ सीटों पर नामांकन प्रक्रिया शुरू, अलर्ट जारी

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को जीत मिली

2019 के लोकसभा चुनाव में बाजी एक बार फिर पलटी और लॉकेट चटर्जी ने बीजेपी के टिकट पर 6 लाख 71 हजार 448 वोटों से जीत हासिल की। तृणमूल कांग्रेस की डॉ. रत्ना डे को पांच लाख 98 हजार 086 वोट मिले। सीपीआई (एम) के प्रदीप साहा को एक लाख 21 हजार 588 वोटों से ही संतोष करना पड़ा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

सम्बंधित खबरें