हैट्रिक ही नहीं आंकड़ों में भी अव्वल भाजपा, तीन दशक में कोई भी पार्टी अकेले नहीं जीत सकी 240 सीटें

11
lok-sabha-elections-2024-nda-wins-india-alliance-defeat-congress-bjp

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha elections 2024) के नतीजों ने सभी को चौंका दिया। एक तरफ भारत गठबंधन ने इस चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया। वहीं, दूसरी तरफ भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन ने पूर्ण बहुमत के लिए 272 का जादुई आंकड़ा भी पार कर लिया। एनडीए को 292 सीटें मिली हैं। जबकि, भारत गठबंधन के घटक दलों ने 234 सीटें जीतीं। वहीं, अन्य के खाते में 17 सीटें आईं।

2024 में भी भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी

2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। भाजपा ने 240 सीटें जीती हैं। हालांकि, यह 2019 के मुकाबले 63 सीटें कम हैं। पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने नाम ऐतिहासिक रिकॉर्ड दर्ज कर लिया है। भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार तीसरे कार्यकाल में बनने जा रही है। इसके साथ ही नरेंद्र मोदी लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेकर जवाहरलाल नेहरू के रिकॉर्ड की बराबरी कर लेंगे।

कांग्रेस तीन दशक में भाजपा के आंकड़े को नहीं छू पाई 

कांग्रेस ने देश पर सबसे लंबे समय तक शासन किया था। लेकिन, चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, कांग्रेस पार्टी पिछले तीन दशक में भाजपा के 240 के आंकड़े को भी नहीं छू पाई है। चुनाव आयोग के मुताबिक, 1989 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को सिर्फ 197 सीटों पर जीत मिली थी। उस समय कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नेतृत्व में चुनाव लड़ा था। 1991 में हुए 10वें लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 232 सीटों पर जीत मिली थी।

ये भी पढ़ेंः- पहली बार अल्पमत की सरकार का नेतृत्व करेंगे नरेंद्र मोदी

1996 के लोकसभा चुनाव में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने 161 सीटें जीती थीं और कांग्रेस को 140 सीटों पर जीत मिली थी। 1998 में एक बार फिर भाजपा कुल 543 लोकसभा सीटों में से 182 सांसदों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। वहीं, देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को 141 ​​सीटें मिलीं।

1999 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 182 सीटें जीतीं और कांग्रेस की सीटें घटकर 114 रह गईं। 2004 के चुनाव में कांग्रेस सत्ता में आई और यूपीए गठबंधन के तहत सरकार चलाई। लेकिन, चुनाव में कांग्रेस को सिर्फ़ 145 सीटें मिलीं। 2009 में कांग्रेस फिर सत्ता में आई और पार्टी ने 206 सीटें जीतीं। हालांकि, कांग्रेस का आंकड़ा भी बीजेपी के 240 से काफी पीछे रहा।

2019 में भाजपा ने रिकॉर्ड तोड़ 303 सीटें जीतीं

2014 में बीजेपी ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ा और पार्टी ने अकेले 282 सीटें जीतीं। वहीं, कांग्रेस सिर्फ़ 44 सीटों पर सिमट गई। 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने रिकॉर्ड तोड़ 303 सीटें जीतीं। कांग्रेस सिर्फ़ 52 सीटें ही जीत सकी। इतना ही नहीं, कांग्रेस बड़ी मुश्किल से मुख्य विपक्षी पार्टी भी बन पाई। इस साल के लोकसभा चुनाव के नतीजे भी सामने आ गए हैं। बीजेपी को 240 सीटें मिली हैं। वहीं, कांग्रेस को सिर्फ़ 99 सीटें ही मिल सकीं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)