अद्भुत भक्तिः करोड़ों रुपयों से सजा माता का मंदिर, 10 से लेकर 2000 रुपये के नोटों से हुई सजावट

हैदराबादः देशभर में नवरात्रि और दशहरे की धूम देखने को मिल रही है। नवरात्रि पर हर जगह माता रानी के मंदिरों को बेहद खूबसूरती से सजाया गया है। कुछ ऐसे भी मंदिर जिनकी सजावट थीम के हिसाब से की गई है। वहीं इनमें से कई ऐसे मंदिर है भी जो आकर्षण का केंद्र बने रहते हैं। अक्सर मंदिरों की सजावट फूलों झलरों से होती है लेकिन आज हम एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जो रुपये से सजाया गया है। यही नहीं माता रानी के इस मंदिर को 500-1000 नहीं बल्कि पूरे 5.16 करोड़ की नोटों से सजाया गया है। यह अपने आप में ही अद्भुत है।

5.16 करोड़ रुपये के नोटों से सजाया गया मंदिर

दरअसल हम बात कर रहे है आंध्र प्रदेश नेल्लोर जिले के ‘कन्याका परमेश्वरी मंदिर’ की। बता दें कि प्रदेश में चल रहे दशहरा समारोह के दौरान एक मंदिर को 5.16 करोड़ रुपये के नोटों से सजाया गया है। 100 से अधिक स्वयंसेवकों ने 2,000 रुपये, 500 रुपये, 200 रुपये, 100 रुपये, 50 रुपये और 10 रुपये मूल्यवर्ग के नोटों के साथ मंदिर को सजाने के लिए कई घंटों तक काम किया।

आयोजकों ने विभिन्न संप्रदायों और रंगों के करेंसी नोटों से बने ओरिगेमी फूलों की माला और गुलदस्ते से देवता को सजाया। विभिन्न रंगों के करेंसी नोटों ने मंदिर की सुंदरता में चार चांद लगा दिए हैं और विभिन्न स्थानों के भक्तों को यह मंदिर आकर्षित कर रहा है। नवरात्रि समारोह के दौरान बड़ी संख्या में भक्त धन की देवी ‘धनलक्ष्मी’ के ‘अवतार’ में देवता की पूजा करते हैं। नौ दिवसीय नवरात्रि-दशहरा समारोह के दौरान उन्हें धन की देवी धनलक्ष्मी के रूप में पहना जाता है और उनकी पूजा की जाती है।

इस अनूठी सजावट के लिए कलाकारों की ली गई सेवाएं

नेल्लोर शहरी विकास प्राधिकरण (एनयूडीए) के अध्यक्ष और मंदिर समिति के सदस्य मुक्कला द्वारकानाथ के अनुसार, समिति ने हाल ही में 11 करोड़ रुपये की लागत से पुराने कन्याका परमेश्वरी मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया था। उन्होंने कहा, चूंकि मरम्मत कार्य पूरा होने के बाद यह पहला उत्सव है, जिसमें चार साल लग गए, समिति ने मुद्रा नोटों के साथ देवता को सजाने का फैसला किया। समिति के सदस्यों और भक्तों ने नए मुद्रा नोट एकत्र किए और अनूठी सजावट के लिए कलाकारों की सेवाएं लीं।

समिति ने दशहरा उत्सव के हिस्से के रूप में देवता को 7 किलो सोने और 60 किलो चांदी से सजाने की भी योजना बनाई है। हालांकि यह पहला मामला नहीं है जब किसी मंदिर को करेंसी नोटों से सजाया गया हो। इससे पहले तेलंगाना के जोगुलम्बा गडवाल जिले में कन्याका परमेश्वरी मंदिर को 1,11,11,111 रुपये के नोटों से सजाया गया था। जबकि 2017 में मंदिर समिति ने 3,33,33,333 रुपये के करेंसी नोटों के साथ इसी तरह की व्यवस्था में प्रसाद चढ़ाया था।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)