पीलिया रोग का रामबाण इलाज है मूली के पत्तों का रस, जानें इसके और भी लाभ

78

 

नई दिल्लीः कई लोगों को मूली तो काफी पसंद होती है लेकिन इसके पत्तों को कोई ज्यादा गौर नहीं करता है। मूली के पत्तों को अक्सर लोग फेंक देते हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि मूली के पत्तों में मूली से भी ज्यादा पोषक तत्व पाये जाते हैं। इसलिए मूली का इसके पत्तों के साथ ही सेवन करना चाहिए।

मूली में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जिससे कब्ज की समस्या दूर रहती है। वहीं पीलिया रोग से पीड़ित लोगों को इसके रस पीने की सलाह दी जाती है। इतना ही नहीं इसके लगातार सेवन से बालों की झड़ने की समस्या भी दूर होती है। मूली के पत्तों के सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बढ़ोत्तरी होती है जिससे आप चुस्त-तंदुरूस्त होंगे और थकान महसूस नहीं होगी।

यह भी पढ़ेंः-सात राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि, मांस-अंडा खरीदने, खाने से पहले इन बातों का रखें विशेष ध्यान

मूली के पत्तों में विटामिन ए, विटामिन बी, सी के साथ ही क्लोरीन, फास्फोरस, सोडियम, आयरन, मैग्नीशियम पाया जाता है जो मूत्र विकारों में भी बेहद लाभकारी होते हैं। बवासीर रोगियों के लिए मूली किसी औषधि से कम नही है। इसके पत्तों की सब्जी के रोजाना सेवन से इन रोगियों की समस्या लगभग समाप्त हो जाती है। यह शरीर में नमक की कमी को भी पूरा करता है, इसलिए लो ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए भी यह बेहद फायदेमंद है।