CG: विधानसभा में उठा पुलिसकर्मियों के भत्ते का मामला, गृह मंत्री बोले- समीक्षा का हो रहा प्रयास

16

CG News: छत्तीसगढ़ विधानसभा में बजट सत्र के नौवें दिन गुरुवार को विधायकों ने पुलिसकर्मियों के आवास और भत्ते से जुड़े मामले को लेकर सवाल पूछे। कांग्रेस विधायक चतुरी नंद ने पुलिसकर्मियों को मिलने वाले वेतन, भत्ते और अन्य सुविधाओं का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों को 18 रुपये साइकिल भत्ता दिया जा रहा है, जो बहुत कम है। चतुरी नंद ने सरकार से मांग की है कि पुलिस कर्मियों का ग्रेड पे 1900 से बढ़ाकर 2800 किया जाए।

उन्होंने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि सुरक्षा कर्मियों के वेतन भत्ते में 15-20 फीसदी की बढ़ोतरी की जाए। कांग्रेस विधायक के सवाल का जवाब देते हुए गृह मंत्री विजय शर्मा ने माना कि पुलिसकर्मियों को दिया जाने वाला भत्ता कम है और इसे बढ़ाया जाना चाहिए।

उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने अपने जवाब में कहा कि यह कोई छोटी बात नहीं है। प्रतिपूरक भत्ता, पौष्टिक भोजन भत्ता, आवास भत्ता और वर्दी धुलाई भत्ता जैसे कई भत्ते भी हैं। वर्ष 2007 में समिति द्वारा भत्तों के संबंध में संशोधन किया गया था। इसके बाद भत्तों के संबंध में कोई संशोधन नहीं किया गया। अब हम सभी भत्तों की समीक्षा का प्रयास कर रहे हैं। मुझे लगता है आपको इस मामले का नतीजा जल्द ही मिलेगा।

ये भी पढ़ें..CG: राशन कार्ड नवीनीकरण की बढ़ी आखिरी तारीख, अब इस दिन तक करें आवेदन

जल्द निकाला जायेगा समाधान

विजय शर्मा ने बताया कि पुलिस विभाग में सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर तक को 12 महीने की कार्य अवधि में 13 महीने का वेतन दिया जाता है। इसके साथ ही 8,000 रुपये सालाना किट भत्ता दिया जाता है. उन्होंने कहा कि नक्सली इलाकों में तैनात पुलिसकर्मियों को प्रति माह मूल वेतन का 20 प्रतिशत और 15 प्रतिशत अधिक वेतन दिया जाता है। संवेदनशील, अति संवेदनशील और सामान्य क्षेत्रों में तैनात पुलिसकर्मियों को सामान्य क्षेत्र के आधार पर क्रमशः 50, 35 और 15 प्रतिशत अतिरिक्त वेतन दिया जाता है। मंत्री विजय शर्मा ने माना कि पुलिसकर्मियों का भत्ता कम है। उन्होंने कहा कि विभागीय कमेटी बनाकर जल्द ही इसका समाधान निकाला जायेगा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)