अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस आज, ये है देश के मशहूर टाइगर रिजर्व

नई दिल्ली: बाघों के संरक्षण और उनकी विलुप्त होती प्रजातियों को बचाने के उद्देश्य से हर साल दुनियाभर में 29 जुलाई को विश्व बाघ दिवस मनाया जाता है। इनके संरक्षण के लिए ‘सेव द टाइगर’ जैसे राष्ट्रीय अभियानों को भी चलाया जा रहा है। बाघ संरक्षण को प्रोत्साहित करने और बाघों की घटती संख्या के प्रति जागरूकता के लिए 2010 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में एक सम्मेलन आयोजित किया गया था, जिसमें अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस मनाने की घोषणा की गई थी। इसमें 2022 तक बाघों की संख्‍या को दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया था।

बाघ भारत का राष्ट्रीय पशु है जिसके बावजूद भारत में साल 2010 में बाघ विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गए थे। देश में वर्तमान समय में कुल 52 टाइगर रिजर्व हैं। भारत का पहला बाघ रिजर्व जिम कार्बेट है। वहीं देश का सबसे बड़ा टाइगर रिजर्व नागार्जुन सागर श्रीशैलम है जबकि देश का सबसे छोटा टाइगर रिजर्व महाराष्ट्र के पेंच में है। बता दें कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा बाघ भारत में पाए जाते हैं। देश के कुल 18 राज्यों में बाघ पाए जाते हैं। 2019 में आई रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 2967 बाघ हैं। जिसमें से सबसे ज्यादा 526 बाघ मध्यप्रदेश में हैं।

यह भी पढ़ें- टोक्यो ओलंपिक: बैडमिंटन स्टार सिंधू आसान जीत के साथ क्वार्टर फाइनल में, पदक से 1 कदम दूर

देश के मशहूर बाघ अभ्यारण्य

जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व

विश्व प्रसिद्व जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व उत्तराखंड के नैनीताल जिले के रामनगर शहर में है। यह भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है। कॉर्बेट की मनोहारी दृश्य और खूबसूरत नजारें को देखने देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। जिम कॉर्बेट जैसे हरे-भरे कुछ ही बाघ अभयारण्य हैं। यहां पर आप आकर्षक जंगल सफारी का आनंद उठा सकते हैं।

रणथंभौर टाइगर रिजर्व

रणथंभौर टाइगर रिजर्व राजस्थान के दक्षिणी जिले सवाई माधोपुर में स्थित है। यह अरावली और विंध्य की पहाड़ियों में फैला है। यहां स्थित तीन झीलों के पास बाघों को दिखाई देने की अधिक संभावना रहती है। बाघ के अलावा यहां चीते भी रहते हैं। जानवरों के अलावा पक्षियों की कई प्रजातियां देखी जा सकती हैं।

सुंदरबन टाइगर रिजर्व

सुंदरबन टाइगर रिजर्व पश्चिम बंगाल राज्य के दक्षिणी भाग में गंगा नदी के सुंदरवन डेल्टा क्षेत्र में स्थित है। यह रॉयल बंगाल टाइगर के लिए प्रसिद्ध हैं। इस टाइगर रिजर्व की खासियत यह है कि इसमें जलीय स्तनधारियों, पक्षियों और सरीसृपों सहित लुप्तप्राय प्रजातियों की एक महत्वपूर्ण संख्या भी है। लेकिन सुंदरबन में जीप सफारी की सुविधा नहीं है। इसके बजाय आपको क्षेत्र के आस-पास के परिवहन और दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए नाव का सहारा लेना होगा।

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व

बांधवगढ़ बाघ अभ्यारण्य मध्य प्रदेश में स्थित है। यह देश के सर्वश्रेष्ठ बाघ अभ्यारण्यों की सूची में उच्च स्थान पर है। यहां हर दिन हजारों पर्यटक आते हैं। इस अभ्यारण्य में रॉयल बंगाल टाइगर्स सबसे अधिक है। इस राष्ट्रीय उद्यान में प्राचीन बांधवगढ़ किला भी है। अपनी समृद्ध जैव विविधता, प्राकृतिक सुंदरता और गौरवशाली इतिहास के कारण बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व यहां आने के लिए आकर्षित करता है।

पेरियार टाइगर रिजर्व

पेरियार टाइगर रिजर्व केरल के इडुक्की और पथानामथिट्टा जिले में स्थित है। यह भारत के प्रसिद्ध बाघ अभयारण्यों में से एक है और इसमें बंगाल के बाघ, सफेद बाघ, एशियाई हाथी, जंगली सूअर और सांभर की बड़ी आबादी है। लगभग 777 वर्ग किमी के कुल क्षेत्रफल के साथ इसमें एक कृत्रिम झील भी है, जो इसकी सुंदरता और ज्यादा बढ़ाती है।