Happy Birthday: सैफई के बीहड़ से निकलकर 3 बार बने CM, ऐसा रहा ‘नेता जी’ का सियासी सफर

लखनऊः उत्तर प्रदेश के सैफई के बीहड़ से निकलकर तीन बार यूपी के सीएम और देश के रक्षामंत्री रहे सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का आज 82वां जन्मदिन है। समाजवादी पार्टी मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन सादगी के साथ मना रही है। देश के तमाम नेता मुलायम को बधाईयाँ दे रहे हैं। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी मुलायम सिंह यादव को बधाई दी है।

ये भी पढ़ें..Happy Birthday: कार्तिक आर्यन ने इस फिल्म में बिना रूके बोला था 5 मिनट का लंबा डायलाॅग

सपा की तरफ से आये ट्वीट में कहा गया कि ‘नेताजी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई। मुलायम सिंह यादव को जन्मदिन की बधाई देते हुए सीएम योगी ने कहा कि ‘उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। प्रभु श्री राम से आपके उत्तम स्वास्थ्य व सुदीर्घ जीवन की कामना करता हूं।

22 नवंबर 1939 को हुआ जन्म

नेता जी के नाम से मशहूर मुलायम सिंह यादव का जन्म इटावा जिले के सैफई गांव में 22 नवंबर 1939 को जन्म हुआ था। वह आज 82 साल के हो गए हैं। मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के चार भाई और एक बहन हैं। अभी वह मैनपुरी से सांसद हैं और पार्टी के संरक्षक भी हैं। अखिलेश यादव उनके बेटे हैं और उन्हीं के दम पर 2012 में अखिलेश यादव पहली बार यूपी के मुख्यमंत्री बने थे। मुलायम सिंह यादव एक साधारण परिवार से निकलकर उत्तर प्रदेश और देश की सियासत में अपनी एक बड़ी पहचान बनाई है। उन्होंने तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर कार्य किया। जबकि एक बार देश के रक्षा मंत्री भी रहे।

मुलायम सिंह का सियासी सफर

मुलायम (Mulayam Singh Yadav) शुरुआती दिनों में शिक्षक का कार्य करते थे लेकिन लोहिया और उनके साथ के लोगों के संपर्क में आने के बाद सियासत की ओर रुख कर दिया। मुलायम ने राजनीतिक जीवन की शुरुआत सोशलिस्ट पार्टी (Socialist Party) से की थी। मुलायम सिंह यादव पहली बार 1967 में विधायक चुने गए थे। आपातकाल के दौरान नेता जी 19 महीने तक जेल में भी रहे। वहीं पहली बार वह 1977 में राज्य मंत्री बनाये गए। 1980 में वह लोकदल के अध्यक्ष बनाए गए। जबकि 1985 के बाद मुलायम ने क्रांतिकारी मोर्चा बनाया और जमकर सुर्खियां बटोरी।

मुलायम सिंह यादव 1989 में पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री।1990 में केंद्र में वीपी सिंह की सरकार गिरने के बाद मुलायम सिंह यादव ने चंद्रशेखर के जनता दल (सोशलिस्ट) से जुड़े और मुख्यमंत्री बने रहे। इसमें कांग्रेस का समर्थन भी शामिल था। 1991 में कांग्रेस का समर्थन वापस लेने से मुलायम सरकार गिर गई। 1991 में बीच में ही चुनाव हुए, लेकिन मुलायम सिंह यादव की पार्टी की सरकार नहीं बनी।

तीन बार बने यूपी के सीएम

मुलायम ने 1992 में समाजवादी पार्टी का गठन किया और 1993 में बसपा के समर्थन से एक बार फिर मुलायम सत्ता में लौटे। इसके अलावा मुलायम सिंह यादव 1996 से 1998 तक देश के रक्षामंत्री भी रहे। 2003 में मुलायम सिंह यादव फिर सत्ता में लौटे और यूपी के सीएम बने। फिर 2012 में फिर सपा सत्ता में लौटी लेकिन इस बार मुलायम ने अपने बेटे अखिलेश यादव को सीएम बनाया और सक्रिय राजनीति से थोड़ी दूरी बना ली।

मुलायम सिंह यादव की सफलता में उनके छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव ने अहम भूमिका निभाई। राजनीति आने से पहले वह एक जाने माने पहलवान थे। आज भी उनके जन्मदिन पर सैफाई में दंगल का आयोजन किया जाता है। इस बार मुलायम के जन्मदिन पर सैफाई में बड़े दंगल का आयोजन किया गया है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)