स्वस्थ तन और मन के लिए दिनचर्या में इन नियमों का करें पालन

नई दिल्लीः कहा जाता है कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का वास होता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यदि आपका स्वास्थ्य ठीक रहेगा तो ही आपका मन अन्य कार्यो में लगेगा। इसलिए अपने स्वास्थ्य को विशेष ध्यान रखें। अपनी दिनचर्या में संयमित और संतुलित रखें। हमारे शरीर की हर प्रणाली आपस में जुड़ी हुई है। इसलिए, हमारा शारीरिक स्वास्थ्य हमारे मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है और हमारा मानसिक स्वास्थ्य हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। स्वस्थ रहने के लिए हमेशा अपनी दिनचर्या में इन नियमों का पालन करना चाहिए।

पूरा पोषण लेना
पोषण लेने का मतलब यह नहीं है कि हम हर समय सलाद खाते रहते हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करता है कि हम अपने शरीर को प्रोटीन, काबोर्हाइड्रेट, वसा से लेकर सभी विटामिन और खनिजों तक सभी पोषक तत्वों से भर दें। यह सुनिश्चित करते हुए कि हमारा कुल कैलोरी सेवन हमारे शरीर संरचना लक्ष्यों के अनुरूप है। यह भी सुनिश्चित करते हुए कि हमारे आहार में हमारे पसंदीदा और मुख्य खाद्य पदार्थ हैं। हमें यह भी याद रखना चाहिए कि हमारे शरीर का 50-60 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना है और हमें स्वास्थ्य, मस्तिष्क के कार्य आदि के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है।

व्यायाम और गतिविधि
सप्ताह में कम से कम 3-5 बार व्यायाम करना हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। व्यायाम का कोई भी रूप जो हमारे लिए सुरक्षित है और जिसका हम आनंद लेते हैं, हम में से अधिकांश के लिए यह एक अच्छी शुरूआत है।

पर्याप्त नींद जरूर लें
हर रात 7.5 घंटे से ज्यादा सोना अच्छा होता है। पर्याप्त नींद भी हमारी उत्पादकता में सुधार करती है। पर्याप्त नींद लेने से शरीर में हमेशा स्फूर्ति बनी रहती है। साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है।

ये भी पढ़ें..खेल जगत के लिए दुखद खबर, नेपाल में भारत के दो…

तनाव प्रबंधन और दिमागीपन
दूसरी ओर, तनाव प्रबंधन भी उतना ही महत्वपूर्ण है, अगर तनाव को ठीक से प्रबंधित किया जाए, तो यह वास्तव में हमें बेहतर प्रदर्शन करने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकता है। याद रखें, हमारे विचारों की गुणवत्ता हमारे जीवन की गुणवत्ता को निर्धारित करती है। इसलिए, हमें सक्रिय रूप से अपने दिमाग पर काम करना चाहिए, खुद को सुधारना चाहिए और अपने मानसिक दोषों को कम करना चाहिए।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक औरट्विटरपर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…