ड्रोन के जरिए लड़ाई एक नई चुनौती, हम इससे निपटने में सक्षम : डीजी

Drone.

गुरुग्राम: राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के डीजी एम.ए. गणपति ने शनिवार को कहा कि ड्रोन वारफेयर (जंग या युद्ध) एक नई चुनौती है और एनएसजी इससे निपटने में पूरी तरह सक्षम है। वह शनिवार को यहां एनएसजी के 37वें स्थापना दिवस कार्यक्रम से इतर कहा, हर सुरक्षा बल को काउंटर ड्रोन तकनीक को अपग्रेड करने की जरूरत है। ड्रोन बम गिराने और हथियारों और गोला-बारूद जैसे पेलोड को गिराने का एक आसान तरीका है।

इससे पहले, एनएसजी के 37वें स्थापना दिवस पर डीजी ने कहा कि एनएसजी खुद को नई सुरक्षा चुनौतियों के लिए उन्नत कर रहा है और पिछले कुछ वर्षो में, आतंकवाद विरोधी उपायों को मजबूत करने के लिए कई पहल की गई हैं। गणपति ने कहा, ड्रोन हमलों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए बल अब काउंटर ड्रोन उपकरण, रडार, जैमर और ड्रोन किलिंग गन से लैस है।

पिछले एक साल में बल के उन्नयन (अपग्रेडेशन) का जिक्र करते हुए उन्होंने आगे कहा कि हाल ही में जम्मू हवाईअड्डे पर हुए ड्रोन हमलों के आलोक में ड्रोन रोधी तकनीक से लैस एनएसजी के आतंकवाद विरोधी कमांडो बलों को जम्मू और श्रीनगर में तैनात किया गया है। यह कदम इन महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों को ड्रोन रोधी कवर प्रदान करने के लिए उठाया गया है। उन्होंने कहा कि बल ने पंजाब के अमृतसर में ड्रोन के माध्यम से सीमा पार भेजे गए आईईडी और टिफिन बॉक्स बमों को भी नष्ट कर दिया है।

एनएसजी के महानिदेशक ने आगे कहा कि बल आधुनिक हथियारों और उपकरणों से लैस है और देशभर में बुनियादी ढांचे को भी मजबूत किया है और मानेसर, दिल्ली, हैदराबाद, मुंबई और कोलकाता में इनडोर शूटिंग रेंज स्थापित की गई हैं।

उन्होंने कहा कि बम निरोधक दस्तों की दक्षता बढ़ाने के उद्देश्य से, रिमोट से संचालित मिनी वाहन, कुल नियंत्रण वाहन और रोबोट को बल में जोड़ा गया है। उन्होंने यह भी कहा कि एक ही समय में कई स्थानों पर कई हमलों से निपटने के लिए पिछले महीने सभी एजेंसियों के समन्वय में गांडीव 3 मॉक अभ्यास किया गया था।

यह भी पढ़ेंः-हिन्द महासागर में उभरती चुनौतियों से निपटेंगी भारत-अमेरिकी नौसेनाएं

गणपति ने यह भी कहा कि एनएसजी के करीबी सुरक्षा बल ने कोविड-19 प्रतिबंधों के बावजूद पिछले एक साल में 4,600 से अधिक आयोजनों में वीवीआईपी को सुरक्षा प्रदान की है और पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान 260 से अधिक सार्वजनिक समारोहों और रोड शो में वीवीआईपी को सुरक्षा प्रदान की है। उन्होंने यह भी कहा कि सभी एनएसजी कर्मियों को कोविड-19 के लिए पूरी तरह से टीका लगाया गया है और अपने स्वयं के संसाधनों के साथ यहां एनएसजी परिसर में 60 बिस्तरों वाला अस्पताल स्थापित किया गया है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)