आंधी तूफान का कहर! पेड़ के नीचे दबा परिवार, मां और बेटी की मौत

33
Rajasthan buried-under-tree-mother-and-daughter-die

Rajasthan, जयपुरः राजस्थान में लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिलनी शुरू हो गई है। प्रदेश में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के चलते शुक्रवार को भी मौसम में बदलाव की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से दोपहर बाद जोधपुर, बीकानेर, अजमेर और जयपुर संभाग के कुछ हिस्सों में तेज आंधी, तेज अंधड़ और बारिश होने की संभावना है। इस दौरान पश्चिमी राजस्थान में कुछ स्थानों पर तेज आंधी के साथ बारिश, बिजली चमकने और ओलावृष्टि की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार सिस्टम का असर 8-9 जून को बीकानेर, जोधपुर, जयपुर, अजमेर, भरतपुर, कोटा संभाग के कुछ हिस्सों में आंधी, अंधड़ और हल्की बारिश के रूप में जारी रहेगा। 10 जून से कोटा, उदयपुर संभाग के कुछ हिस्सों में आंधी और बारिश की गतिविधियां दर्ज होने की संभावना है और शेष हिस्सों में मौसम मुख्यतः शुष्क रहने की संभावना है। विभाग ने अगले कुछ घंटों के भीतर बीकानेर, चूरू और नागौर में आंधी, धूल भरी आंधी, बिजली चमकने और बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। विक्षोभ के असर से गुरुवार शाम जयपुर, सीकर, दौसा के साथ ही श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर में तेज धूल भरी आंधी आई। तेज आंधी के कारण कई जगह पेड़, ट्रांसफार्मर के खंभे और होर्डिंग बोर्ड गिर गए। झुंझुनूं के खेतड़ी में आंधी के कारण पेड़ टूटने से 11 वर्षीय बालिका और उसकी मां की मौत हो गई।

घर के बाहर सो रहा था परिवार

राजधानी जयपुर में रात करीब 10 बजे बाद मौसम बदल गया। आसमान में बादल छाने के साथ हवा चलने लगी। रात करीब 10:30 बजे तेज आंधी शुरू हुई और आसमान में धूल छा गई। तेज आंधी के कारण कुछ जगह पेड़-पौधे गिर गए। झुंझुनूं के खेतड़ी क्षेत्र के बांसियाल गांव में आंधी के कारण पेड़ टूटकर घर के बाहर सो रहे परिवार पर गिर गया। हादसे में 11 वर्षीय काजल की मौत हो गई और उसकी मां सावित्री (45) घायल हो गई। घायल सावित्री को खेतड़ी के राजकीय उप जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां उपचार के दौरान उनकी भी मौत हो गई। इससे पहले श्रीगंगानगर, बीकानेर और हनुमानगढ़ में देर शाम काली-पीली आंधी चली। श्रीगंगानगर के सीमावर्ती इलाकों में धूल का बड़ा गुबार उठा और आसमान पर छा गया। कई गांवों में पेड़ और ट्रांसफार्मर सहित रोड लाइट के खंभे गिर गए। इससे गांवों में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई। सड़क किनारे लगे बड़े होर्डिंग्स, घरों और अन्य जगहों पर लगे टीनशेड भी उड़ गए। पश्चिमी विक्षोभ के असर से राजस्थान में तापमान में गिरावट दर्ज की गई।

यह भी पढ़ेंः-अदाणी सोलर PVEL के पीवी मॉड्यूल रिलायबिलिटी स्कोरकार्ड में फिर अव्वल, पढ़ें खबर

तापमान में आई गिरावट

कल सबसे अधिक तापमान चित्तौड़गढ़ में 43.7 डिग्री सेल्सियस रहा। जयपुर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, टोंक, धौलपुर समेत कई शहरों में कल दिन के तापमान में चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई। चित्तौड़गढ़ के अलावा वनस्थली (टोंक), बारां, करौली में कल दिन का अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस रहा। राजधानी जयपुर में तापमान 41.6, कोटा में 42.6, उदयपुर में 40, धौलपुर में 42.2, बाड़मेर-जैसलमेर में 40.5, जोधपुर में 40.9, फलौदी में 40.6, बीकानेर-चूरू में 42.4, श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ में तापमान 39 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा। जयपुर मौसम केंद्र के अनुसार शुक्रवार को अजमेर, अलवर, बारां, भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, दौसा, धौलपुर, जयपुर, झालावाड़, करौली, कोटा, सवाई माधोपुर, टोंक, बाड़मेर और पाली में येलो अलर्ट जारी किया गया है, जबकि गंगानगर, नागौर, जोधपुर, जैसलमेर, हनुमानगढ़, चूरू, बीकानेर, झुंझुनूं और सीकर में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इन जिलों में दोपहर बाद तेज धूल भरी आंधी, बिजली चमकने, गरज के साथ बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की गई है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)