चारबाग स्टेशन के हेरिटेज को बचाने के लिए विशेषज्ञ करेंगे मदद

0
3

Charbagh station: चारबाग रेलवे स्टेशन और मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के हेरिटेज को बचाने के लिए रेलवे ने विशेषज्ञों से मदद मांगी है। हेरिटेज को बचाने के लिए सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीबीआरआई) की टीम रूड़की से लखनऊ पहुंची है। यह टीम दोनों ही भवनों की स्ट्रक्चरल स्क्रीनिंग करेगी।

सीबीआरआई टीम ने शुरू की स्क्रीनिंग

इस आधार पर भवन को किस प्रकार की मरम्मत की जरूरत है, इसकी रिपोर्ट तैयार की जाएगी। रेलवे अफसरों के अनुसार, चारबाग रेलवे स्टेशन भवन को सौ वर्ष पूरे होने वाले हैं। स्टेशन के भवन को सुरक्षित रखने के लिए सीबीआरआई से सम्पर्क किया गया है। जिसके बाद सीबीआरआई की टीम ने स्क्रीनिंग शुरू कर दी है। टीम की रिपोर्ट के बाद स्टेशन व डीआरएम कार्यालय भवन को सुरक्षित रखने के उपाय किए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान लखनऊ को अवध व रूहेलखंड रेलवे का मुख्यालय बनाया गया था।

हजरतगंज स्थित डीआरएम कार्यालय में ही इसका मुख्यालय था। इस रेलवे ने अप्रैल 1867 में लखनऊ से कानपुर के बीच पहला रेलवे ट्रैक  शुरू किया था, वहीं वर्ष 1914 के मार्च माह में चारबाग रेलवे स्टेशन को बनाने की नींव रखी गई थी। वर्ष 1925 में यह स्टेशन करीब 70 लाख की लागत से बनकर तैयार हुआ था। चारबाग रेलवे स्टेशन भवन पर शतरंजनुमा बिसात बिछी हुई है। यह स्टेशन देश के सबसे सुंदर और पुराने स्टेशन भवनों में से एक है। मौजूदा समय में चारबाग रेलवे स्टेशन भवन की छत से कई जगह पर प्लास्टर उखड़ कर गिर रहा है।

यह भी पढ़ें-यूपीः सपा ने प्रशासन की कार्यशैली पर उठाए सवाल, बताया तानाशाह

इस भवन को हेरिटेज के तौर पर बचाने के लिए डीआरएम की ओर से सीबीआरआई रूड़की को पत्र लिखा गया था। जिसके बाद सीबीआरआई की टीम ने लखनऊ पहुंचकर चारबाग रेलवे स्टेशन व हजरतगंज स्थित डीआरएम कार्यालय भवन की मौजूदा स्ट्रक्चरल स्थिति की स्क्रीनिंग शुरू कर दी है। टीम की रिपोर्ट के आधार पर यह पता चल सकेगा कि दोनों की भवनों को मजबूत बनाने के लिए कौन-कौन से काम कराने होंगे।

आनंद नगर की ओर शुरू हुआ नए भवन का निर्माण

चारबाग रेलवे स्टेशन के सेकेंड एंट्री एरिया आनंद नगर की ओर नए भवन का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। चारबाग स्टेशन पर कॉनकोर्स के लिए पुराना वाला फुट ओवरब्रिज तोड़ा जाएगा। रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) ने रेलवे से 81 दिनों का ब्लाक मांगा है। ब्लाक मिलते ही पिलर बनाने का काम शुरू होगा। आनंद नगर की ओर नए स्टेशन भवन के एक हिस्से के दो तल का निर्माण शुरू हुआ है।

भवन का विस्तार होने पर रेलवे की कॉलोनियों के खाली घरों को तोड़ा जाएगा, वहीं भविष्य की जरूरतों को देखते हुए चारबाग स्टेशन व लखनऊ जंक्शन को भी जोड़ने की योजना है। पार्सल घर की ओर से एयर कॉनकोर्स के जरिए लखनऊ जंक्शन को चारबाग स्टेशन से जोड़ने का प्लान बनाया गया है। इस कॉनकोर्स से यात्री चारबाग से लखनऊ जंक्शन सीधे जा सकेंगे, वहीं एक अतिरिक्त कॉनकोर्स सैलून साइडिंग की तरफ भी बनाने की तैयारी है। आनंद नगर की ओर दो नए प्लेटफार्म बनने से ट्रेनों की संख्या में इजाफा होगा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)