ज्येष्ठ पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, दीपदान कर लिया आशीर्वाद

32
jyestha-purnima
jyestha-purnima

Jyestha Purnima पर शनिवार को श्रद्धालुओं ने हर की पौड़ी ब्रह्म कुण्ड समेत गंगा के घाटों पर डुबकी लगाकर पुण्य लाभ अर्जित किया। वहीं गंगास्नान करने के बाद लोगों ने दान पुण्य भी किया। मान्यता है कि, ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान के बाद पूजा व दान करने से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

गंगा स्नान के लिए उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़   

बता दें, ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा को सबसे पवित्र और शुभ माना जाता है। Jyestha Purnima पर आज तड़के से ही गंगा  स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़नी शुरू हो गई थी। वहीं सुबह से ही आरम्भ हुआ स्नान का सिलसिला अनवरत चलता रहा। हर की पौड़ी पर सबसे ज्यादा भीड़ देखने को मिली। बड़ी संख्या में श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचे। वहीं श्रद्धालुओं की भीड़ के कारण राजमार्ग पर जाम की स्थिति बनी रही। हालांकि, इस दौरान पुलिसकर्मी भी यातायात व्यवस्था को दुरस्त करते दिखाई दिए।

ये भी पढ़ें: Aaj Ka Rashifal 22 June 2024: इन राशियों को आज होगा आर्थिक लाभ, जानें कैसा रहेगा आपका दिन

पं. देवेन्द्र शुक्ल शास्त्री ने बताया महत्व

पं. देवेन्द्र शुक्ल शास्त्री के मुताबिक धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ पूर्णिमा का व्रत माता लक्ष्मी को समर्पित होता है। इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा करने से सारे मनोरथ पूरे होते हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि, आज ही Jyestha Purnima और वट पूर्णिमा का व्रत है। इसको करने से सुख, समृद्धि बढ़ेगी। इसके साथ ही वैवाहिक जीवन भी सुखमय होता है। वट पूर्णिमा व्रत करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। यह व्रत सुहागन महिलाएं ही करती हैं। इस दिन वट वृक्ष, देवी सावित्री और उनके पति सत्यवान की पूजा की जाती है। ज्येष्ठ अमावस्या को पड़ने वाले वट सावित्री व्रत के तरह ही वट पूर्णिमा व्रत भी रखा जाता है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)