लाल आतंक पर लगामः सुरक्षाबलों के आगे घुटने टेकने को मजबूर नक्सली

रांचीः झारखंड पुलिस का दावा है कि राज्य में पिछले एक वर्षों में नक्सली गतिविधियों में काफी हद तक लगाम लगाने में कामयाबी मिली है। लेकिन झारखंड के 16 से ज्यादा जिले आज भी नक्सली आतंक की चपेट में हैं। लेकिन नक्सली ईनाम और बढ़ते सुरक्षाबलों के दबाव के कारण काफी बड़ी संख्या में हथियार डाल रहे हैं, जिसके कारण उग्रवादी और नक्सली संगठन धीरे-धीरे ही सही, लेकिन अब घुटने टेकने पर मजबूर हो रहा है।

ये भी पढ़ें..जम्मू-कश्मीरः राजौरी में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्दों के छिपे होने की आशंका

138 ईनामी नक्सलियों की तलाश जारी

राज्य में सक्रिय नक्सली और उग्रवादी संगठनों के खिलाफ लगातार पुलिस और सुरक्षाबल अभियान चला रही हैं। पिछले एक वर्ष के दौरान झारखंड के 24 इनामी नक्सली कम हुए हैं। राज्य के अलग-अलग जिले में इस दौरान छह नक्सली मारे गए है, नौ गिरफ्तार हुए और नौ ने सरेंडर किया। इनमें भाकपा माओवादी के नक्सली, टीपीसी और पीएलएफआई के उग्रवादी शामिल हैं। पुलिस मुख्यालय के सूत्रों ने बताया कि राज्य में अब सिर्फ 138 ईनामी नक्सली ही बचे हैं। छह इनामी नक्सली मारे गये हैं। नौ को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जबकि नौ नक्सलियों ने सरेंडर किया है।

This image has an empty alt attribute; its file name is Naxalite.jpg

चार नक्सलियों पर एक करोड़ का ईनाम

उल्लेखनीय है कि झारखंड सरकार ने प्रशांत बोस सहित चार नक्सलियों पर एक करोड़ रूपया का इनाम घोषित किया है। जिन नक्सलियों के ऊपर एक करोड़ का इनाम घोषित किया गया है, इनमें भाकपा माओवादी पोलित ब्यूरो मेंबर प्रशांत बोस, मिसिर बेसरा, सेंट्रल कमिटी मेंबर असीम मंडल और अनल दा उर्फ पतिराम मांझी शामिल है। इसके अलावा 135 अन्य नक्सलियों पर 25 लाख से लेकर एक लाख रूपया तक का इनाम घोषित है।

देश के 25 अति नक्सल प्रभावित जिलों में आठ झारखंड के

गौरतलब है कि देश के 25 अति नक्सल प्रभावित जिलों में आठ झारखंड के जिले शामिल हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्र की एसआरआई स्किम के तहत नक्सल प्रभाव वाले जिलों की समीक्षा की थी। समीक्षा के दौरान गृह मंत्रालय ने पाया था कि पूर्व में देश भर के 90 जिले नक्सल प्रभावित थे। अब इन जिलों की संख्या घटकर 70 रह गयी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 70 में से 25 जिलों को अति माओवादी प्रभाव वाला माना है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने माओवादी गतिविधियों के हिसाब से गढ़वा जिले को डिस्ट्रिक्ट ऑफ कंसर्न की श्रेणी में रखा है। गढ़वा जिले के बुढ़ा पहाड़ में हाल के दिनों में माओवादी गतिविधि बढ़ी है।

देश के 25 अति नक्सल प्रभावित जिले में आठ झारखंड के जिले शामिल हैं। झारखंड में नक्सल प्रभावित 16 जिलों में रांची, बोकारो, चतरा, धनबाद, पूर्वी सिंहभूम, गढ़वा, गिरिडीह, गुमला, हजारीबाग, लातेहार, लोहरदगा, पलामू, सरायकेला- खरसावां, पश्चिमी सिंहभूम शामिल हैं। जबकि 8 अति नक्सल प्रभावित जिले में चतरा, गिरिडीह, गुमला, खूंटी, लोहरदगा, लातेहार, सरायकेला- खरसावां, पश्चिमी सिंहभूम शामिल हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)