राजस्थान में बर्ड फ्लू का कहर जारी, अब तक 5295 पक्षियों की हो चुकी है मौत

56

जयपुरः राजस्थान में एवियन इन्फ्लुएंजा (बर्ड फ्लू) के संक्रमण की जद में अब तक 17 जिले आ चुके हैं। प्रभावित 17 जिलों के 266 नमूनों में से 67 नमूनों में एवियन इन्फ्लूएंजा के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी हैं। प्रदेश के 27 जिलों में अब तक 5295 पक्षियों की असामयिक मौत हो चुकी हैं। बर्ड फ्लू की दहशत के बीच राज्य में रविवार को भी 165 परिन्दे मृत अवस्था में पाए गए हैं।

प्रदेश में रविवार शाम तक गुजरे 24 घंटों में 24 जिलों में 165 पक्षियों की मौतें हुई। पक्षियों की असामान्य मौतों का सिलसिला सर्वप्रथम राज्य के झालावाड़ जिले में प्रारंभ हुआ था। यहां कौओं की असामयिक मौतों के बाद विभिन्न जिलों में पक्षियों की मौतें होने का सिलसिला शुरू हुआ, जो अब तक जारी है। प्रदेश में 25 दिसम्बर से लेकर रविवार तक 5295 पक्षी असामयिक मौत के शिकार हो चुके हैं। इनमें 3740 कौएं, 290 मोर, 419 कबूतर तथा 846 अन्य पक्षी शामिल है। राजस्थान से भोपाल की रेफरल लैब को अब तक 27 जिलों से 266 सैम्पल्स भेजे जा चुके हैं, जिनमें से 17 जिलों के 67 नमूने पॉजिटिव पाए गए हैं।

यह भी पढ़ें-वॉशिंगटन सुंदर ने तोड़ा 72 साल का रिकॉर्ड, बने दूसरे ऐसे हरफनमौला खिलाड़ी

राजस्थान के 24 जिलों में रविवार को मृत मिले 165 पक्षियों में 104 कौएं, 22 कबूतर, 19 मोर तथा 20 अन्य पक्षी शामिल हैं। रविवार को राजधानी जयपुर में 43, अलवर, बूंदी, जोधपुर व टोंक में 4-4, दौसा व जैसलमेर में 5-5, झुंझुनूं में 8, सीकर, धौलपुर, जालोर, श्रीगंगानगर व करौली में 2-2, अजमेर व भीलवाड़ा में 1-1, नागौर व सवाई माधोपुर में 3-3, चित्तौडगढ़, भरतपुर व पाली में 6-6, कोटा में 20, बारां में 11, झालावाड़ में 14, बांसवाड़ा में 7 पक्षियों की मौत हुई। भोपाल की रेफरल लैब से अब तक राजधानी जयपुर, दौसा, सवाई माधोपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, पाली, सिरोही, कोटा, बारां, झालावाड़, बांसवाड़ा, चित्तौडगढ़, टोंक, करौली, प्रतापगढ़, झुंझुनूं व भीलवाड़ा जिले में मृत पाए गए पक्षियों के सैम्पल्स की जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी हैं। भोपाल की रेफरल लैब से राज्य के 7 जिलों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी हैं। इनमें सीकर, भीलवाड़ा, भरतपुर, चूरु, श्रीगंगानगर, जोधपुर व जालोर जिला शामिल हैं।