अवैध धर्मांतरण मामले में एटीएस को बड़ी कामयाबी, करोड़ों रुपये की विदेशी फंडिंग के मिले साक्ष्य

लखनऊः उत्तर प्रदेश एटीएस की आर्थिक शाखा ने अवैध धर्मांतरण में अब तक तकरीबन 150 करोड़ रुपये की विदेशी फंडिंग के साक्ष्य जुटाए हैं। यह रकम मुख्य आरोपित मौलाना उमर गौतम सह अभियुक्त कलीम और सलाहुद्दीन के पास भेजी गई थी।

एटीएस की छानबीन में पता चला कि पांच साल के दौरान उमर गौतम की संस्था इस्लामिक दावा सेंटर और फातिमा चैरिटेबल ट्रस्ट को 30 करोड़ से ज्यादा रुपये विदेशी संस्थाओं से मिले, मगर उसने इसका 60 फीसदी ही धर्मांतरण पर खर्च किया था। बड़ोदरा निवासी सलाहुद्दीन की संस्था अमेरिकन फेडरेशन ऑफ मुस्लिम ऑफ इंडियन ओरिजिन को पांच वर्षों में 28 करोड़ रुपये मिले, जो उसने उमर गौतम को दिए थे।

यह भी पढ़ें-भक्तों ने नम आंखों से दी मां को विदाई, मांगा सुख…

22 करोड़ रुपये कलीम की संस्था अल हसन एजुकेशनल सोसायटी को भेजे गए थे, यह फंड दुबई, तुर्की और अमेरिकी संस्थाओं की तरफ से भेजे गए थे। इसके अलावा महाराष्ट्र के प्रकाश कावड़े उर्फ एडम और उसके सहयोगियों को ब्रिटेन की एक संस्था से 57 करोड़ रुपये अवैध धर्मांतरण को बढ़ाने के लिए मिले थे।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)