राहुल गांधी ने खुद को मारे कोड़े, तेलंगाना के पारंपरिक त्योहार बोनालू में लिया हिस्सा

हैदराबाद: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को तेलंगाना के संगारेड्डी जिले में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान खुद को कोड़े मारने वाली प्रथा में हिस्सा लिया और पोथराजू की भूमिका निभाई। तेलंगाना के पारंपरिक त्योहार बोनालू में पार्टी विधायक जग्गा रेड्डी के साथ भाग लेते हुए राहुल गांधी ने खुद को कोड़े मारे। पोथराजू तेलंगाना में निकाले जाने वाले वार्षिक बोनालू जुलूस में एक पात्र है। उन्हें ‘महाकाली’ देवी के विभिन्न रूपों की सात बहनों का भाई माना जाता है।

जुलूस का नेतृत्व करते हुए, पोथराजू एक चाबुक लेकर चलते हैं और ढोल की थाप की आवाज के साथ खुद को चाबुक से कोड़े मारते हैं। अपनी यात्रा के दौरान, कांग्रेस सांसद ने स्थानीय लोगों के साथ बातचीत की। स्थानीय सांस्कृतिक कलाकारों के साथ डांस किया और बच्चों के साथ खेल भी खेला। पूर्व नौसेना अध्यक्ष एडमिरल रामदास और उनकी पत्नी और सामाजिक कार्यकर्ता ललिता रामदास भी यात्रा में शामिल हुई।

ये भी पढ़ें..सीएम नीतीश ने फिर उठाया बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का मुद्दा, बताई यह वजह

तेलंगाना में अपने मार्च के नौवें दिन यात्रा संगारेड्डी जिले में प्रवेश कर गई। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के प्रमुख ए. रेवंत रेड्डी, कांग्रेस विधायक दल के नेता मल्लू भट्टी विक्रमार्क, सांसद उत्तम कुमार रेड्डी और कई अन्य नेता और पार्टी के कई कार्यकर्ता यात्रा में भाग ले रहे थे। तेलंगाना में पैदल मार्च 7 नवंबर तक चलेगा और 4 नवंबर को एक दिन का ब्रेक होगा। यह राज्य के 19 विधानसभा और सात संसदीय क्षेत्रों में कुल 375 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। यात्रा तेलंगाना से सात नवंबर को महाराष्ट्र में प्रवेश करेगी।

अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक औरट्विटरपर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…