Bengal school job scam: ईडी ने कोर्ट में खोली 72 करोड़ रुपये जुटाने की पोल

16
bengal-school-job-scam-ed-

कोलकाता: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को कोलकाता की एक विशेष पीएमएलए अदालत को बताया कि प्रसन्ना रॉय ने पश्चिम बंगाल के स्कूलों में नौकरी के लिए पैसे के घोटाले (Bengal school job scam) में बिचौलिए के तौर पर 72 करोड़ रुपये जुटाए थे। प्रसन्ना रॉय और उनके परिवार के सदस्यों के छह साल की अवधि में विभिन्न बैंक खातों में जमा राशि का मिलान करने के बाद ईडी इस निष्कर्ष पर पहुंची।

ईडी नेम  मामले में क्या कहा?

ईडी ने प्रसन्ना रॉय की पहचान एक प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में की है। प्रसन्ना रॉय राज्य के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की भतीजी के पति हैं, जो इस मामले में दो साल से अधिक समय से जेल में हैं।

ईडी ने अदालत को यह भी बताया, “प्रसन्ना रॉय ने राज्य शिक्षा विभाग और इसके संबद्ध निकायों जैसे पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (डब्ल्यूबीएसएससी) और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड (डब्ल्यूबीबीपीई) में एक नेटवर्क विकसित किया था, जिसका इस्तेमाल उन्होंने बड़ी रकम के बदले अयोग्य उम्मीदवारों को स्कूल में नौकरी दिलाने के लिए किया।” प्रसन्ना रॉय को पहले सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। बाद में प्रसन्ना रॉय सुप्रीम कोर्ट से सशर्त जमानत पाने में कामयाब रहे। हालांकि, बाद में उन्हें ईडी ने गिरफ्तार कर लिया था।

यह भी पढ़ें-Himachal Pradesh: लोकसभा में क्लीन स्वीप करने के बाद भी उपचुनाव में बीजेपी को मिली निराशा

संपत्ति में भारी  उछाल से हैरान रहे एजेंसी

जब सीबीआई ने प्रसन्ना रॉय के खिलाफ जांच शुरू की, तो एजेंसी के अधिकारी 2014 से 2020 के बीच उनकी संपत्ति में भारी उछाल देखकर हैरान रह गए। यह वही दौर था जब कथित शिक्षक भर्ती घोटाला फल-फूल रहा था। उन्होंने एक छोटे से घर की पेंटिंग ठेकेदार के रूप में शुरुआत की। उन्होंने धीरे-धीरे अपने व्यवसाय का विस्तार हॉलिडे रिसॉर्ट्स और यहां तक ​​कि उत्तर बंगाल के चाय बागानों जैसे अन्य क्षेत्रों में भी किया।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)