प्रदेश में मनरेगा मजदूरों का बुरा हाल, 6 महीने में केवल 9 दिन ही मिला काम

42

 

manrega-labour.

फतेहाबादः अखिल भारतीय खेत मजदूर युनियन हरियाणा ने मनरेगा अधिकारी और एबीपीओ पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि ये अफसर मनरेगा को दोनों हाथों से लूट रहे हैं। अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन हरियाणा के नेता रामकुमार बहबलपुरिया ने मनरेगा मजदूरों को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं। आरोप लगाते हुए उन्होंने मनरेगा के मजदूरों के साथ रोष जताया और डीसी के नाम पर नगराधीश को मांग पत्र सौंपा है।

अधिकारी कर रहे मजदूरों के साथ भेदभाव

इससे पहले मनरेगा मजदूरों को संबोधित करते हुए रामकुमार ने कहा कि मनरेगा में काम करने वालों को मांगने पर भी काम नहीं मिलता न ही किए गए काम की मजदूरी मजदूरों को मिल रही है। उन्होंने कहा कि साधनवास गांव के मजदूरों को पिछले छ: महीने में केवल 9 दिन ही काम मिला है। मांग पत्र सौंपते हुए मनरेगा मजदूरों ने कहा कि मनरेगा अधिकारी और ऑपरेटर मनरेगा मजदूरों के साथ भेदभाव करते हैं। उन्होंने कहा कि मनरेगा में व्यापक पैमाने पर दलाली और भ्रष्टाचार है।

यह भी पढ़ेंः-Hamirpur: बस की चपेट में आने से स्कूटी सवार की मौत, ड्राइवर पर मुकदमा

करनाल में होगी मजदूर ललकार रैली

रामकुमार बहबलपुरिया ने मजदूरों को संबोधित करते हुए कहा कि 8 अक्टूबर को करनाल में मजदूर ललकार रैली होगी और इस रैली में मनरेगा में 200 दिन काम और 600 रुपए दिहाड़ी मजदूरी की मांग के साथ मनरेगा में हो रहे भ्रष्टाचार को प्रमुखता से उठाएंगे। गांव-गांव में मजदूरों का संगठन बनाते हुए भ्रष्टाचार करने वालों का घेराव भी करेंगे।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)