खरगोन हिंसा: एसपी पर हमला करने वालों की हुई पहचान, दोनों गिरफ्तार

37

खरगोन: मध्य प्रदेश के खरगोन शहर में 10 अप्रैल को रामनवमी पर हुई सांप्रदायिक हिंसा के दौरान एसपी सिद्धार्थ चौधरी पर एक व्यक्ति ने तलवार से हमला किया था, जबकि दूसरे ने उन्हें गोली मार दी थी, जिससे वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे। वीडियो फुटेज के आधार पर पुलिस ने दोनों आरोपितों की पहचान कर ली है। फिलहाल दोनों फरार बताए जा रहे हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी है।

खरगोन में रामनवमी पर निकाली जा रही शोभायात्रा के दौरान सांप्रदायिक हिंसा फैल गई थी। पुलिस ने गुरुवार को दो ऐसे उपद्रवियों की पहचान कर रही है, जिन्होंने हिंसा भड़काने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इनमें एक उपद्रवी एसपी को मारने के लिए तलवार लेकर दौड़ा था, जबकि दूसरे ने उन्हें गोली मार दी थी। पुलिस ने दोनों आरोपितों पर रासुका की कार्रवाई कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

प्रभारी एसपी रोहित काशवानी ने बताया कि जिन दो आरोपित नवाज और मोहसिन पर रासुका लगाई गई है, वे आदतन अपराधी हैं। दोनों के खिलाफ पूर्व में भी मारपीट, पत्थरबाजी और शांतिभंग करने के मामले दर्ज हैं। पुलिस ने फिलहाल नवाज के खिलाफ अलग-अलग धाराओं में 8 केस और मोहसिन के खिलाफ विभिन्न धाराओं में 10 केस दर्ज किए हैं। दोनों आरोपित पुलिस गिरफ्त में हैं। इसके अलावा वसीम उर्फ मोहसिन ने एसपी सिद्धार्थ चौधरी पर कट्टे से फायर किया था, जबकि इरफान खान ने भीड़ पर तलवार से हमला किया था।

एएसपी अंकित जायसवाल ने बताया कि जिन दो आरोपित नवाज और मोहसिन के खिलाफ रासुका की कार्रवाई की गई है। वे दोनों दंगों के दौरान सक्रिय थे। दोनों ने उपद्रवियों को भड़काने के साथ ही दंगों के दौरान अहम रोल अदा किया। रामनवमी पर हुए दंगों में दोनों आरोपित अन्य उपद्रवियों के संपर्क में थे और उन्हें भड़का रहे थे, इसलिए इन दोनों पर पुलिस ने जांच के बाद रासुका की कार्रवाई की है।

उन्होंने बताया कि एसपी के प्रधान आरक्षक गनमैन एसएएफ प्रथम वाहिनी गिलदार (45) पुत्र रायसिंह सोलंकी ने एफआईआर दर्ज कराई है। जिसमें गनमैन ने बताया कि वसीम उर्फ मोहसिन पुत्र जानू संजय नगर मुबावाली गली ने कट्टे से फायर किया था। इरफान खान संजय नगर ने भीड़ पर तलवार से हमला किया था।

यह भी पढ़ेंः-अचानक यूएस कैपिटल परिसर को पुलिस ने कराया खाली, वजह जानकर..

गिलदार सिंह ने बताया कि दंगे वाले दिन एसपी और बल ने दोनों पक्षों के लोगों को भगाने के लिए आंसू गैस छोड़ी, तभी वर्ग विशेष का व्यक्ति भीड़ में से सफेद कपड़े पहने सिर पर सफेद कपड़ा बांधे हाथ में तलवार लिए भीड़ में घुस आया। वह तलवार से लोगों पर वार करने लगा। भीड़ को बचाने के लिए मैं, एसपी, ड्राइवर, रीडर व अन्य बल भीड़ में घुसे और उसकी तलवार पकड़कर छीनने का प्रयास किया। एसपी के हाथ में चोट लगी। वह व्यक्ति तलवार छुड़ाकर भीड़ की तरफ भागा, तभी भीड़ में से किसी व्यक्ति ने कट्टे से फायर किया, जिसका एक छर्रा एसपी के बाएं पैर में लगा और खून निकलने लगा।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर  पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…)