देश

आलोक पांडे का प्रियंका गांधी पर बड़ा हमला, भ्रष्टाचार पर पूछे सवाल

alok-pandey

रायपुर: आलोक पांडे, जो पहले कांग्रेस पार्टी में असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष थे और अब भाजपा में हैं, ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी से पिछली भूपेश के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में भ्रष्टाचार के बारे में गंभीर सवाल पूछे हैं। 

आलोक पांडे ने पूछे ये सवाल

रविवार को मीडिया को जारी अपने पत्र में आलोक पांडे ने कहा है कि कल्पना प्रशांत सिंह को आपकी (प्रियंका गांधी) अनुशंसा पर तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ समाज कल्याण विभाग का सदस्य नियुक्त किया था। वह महिला उत्तर प्रदेश की रहने वाली है, उनके और उनके पति के खिलाफ कई गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं, इसके बाद भी आपने इस महिला की सिफारिश क्यों की?

ये भी पढ़ेंः-Firozabad Lok Sabha Election: 7 उम्मीदवारों के नामांकन वैध, 16 के हुए खारिज

आलोक ने बताया है कि साल 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में समाज कल्याण विभाग में गैर सरकारी नियुक्तियों पर रोक लगा दी थी। स्वर्गीय भूपेश बघेल इस विभाग के अध्यक्ष रहे। करुणा शुक्ला को नियुक्त किया गया। इसकी जानकारी होने पर स्व। करुणा शुक्ला ने कभी भी यह पद स्वीकार नहीं किया। कल्पना प्रशांत की नियुक्ति के बाद उक्त महिला द्वारा इस विभाग में भारी भ्रष्टाचार किया गया। आपके संरक्षण के कारण भूपेश बघेल ने इस महिला के भ्रष्टाचार को कभी उजागर नहीं होने दिया। उन्हें क्रमशः जगदलपुर, दंतेवाड़ा और रायपुर में 3 बंगले दिए गए। उन्हें राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया और सभी सुविधाएं मुहैया करायी गयीं। जब यह पद इस विभाग में था ही नहीं तो इन्हें वेतन किस मद से दिया जाता था? उन्हें दी गई सुविधाओं का भुगतान किस माध्यम से किया गया?

कोरोना काल में भी नहीं दी गई कोई सहायता- नेता

आलोक ने प्रियंका गांधी से पूछा है कि असंगठित कामगार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में काम करते हुए उन्होंने कांग्रेस के कई संघर्षशील सदस्यों के नामों की विभिन्न पदों के लिए सिफारिश की थी। कोरोना के दौरान जब उन मित्रों और उनके परिवारों को परेशानी हुई तो मैंने भूपेश बघेल की अनदेखी कर तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आपको भी अवगत कराया। लेकिन हमारे दोस्तों को इस मामले में किसी भी तरह की मदद नहीं दी गई। क्या छत्तीसगढ़ के श्रमिकों की उपेक्षा की गई? इसी तरह मजदूरों के साथ धरना देने वाले मजदूरों को भी कोई सहायता नहीं दी गयी। 

इन आंदोलनों में स्वयं भूपेश बघेल, पी.एल. पुनिया समेत तमाम वरिष्ठ कांग्रेस नेता मौजूद रहे। राहुल गांधी जो देश भर में न्याय यात्रा निकाल रहे थे, जिसमें आप भी शामिल थे, उन्हें आज इस मंच के माध्यम से जवाब देना चाहिए कि आपने छत्तीसगढ़ के श्रमिकों, कर्मचारियों और महिलाओं के साथ यह अन्याय क्यों किया।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर(X) पर फॉलो करें व हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें)