यूपी में पहले दिन 31,700 मेडिकल स्टाफ को लगेगा टीका, पीएम करेंगे लाभार्थियों से संवाद

55

लखनऊः प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान शनिवार से प्रारंभ हो रहा है। पहले दिन 31,700 स्वास्थ्यकर्मियों को टीके लगाए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सम्बोधन के बाद टीकाकरण की शुरुआत की जाएगी। सभी जिलों में वेबकास्टिंग से प्रधानमंत्री के सम्बोधन का प्रसारण होगा। टीकाकरण सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक होगा।

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह शुक्रवार को लोकभवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि प्रदेश के सभी 317 केन्द्रों पर सौ-सौ स्वास्थ्यकर्मियों को टीके लगेंगे। इसमें चिकित्सकों क साथ पैरामेडिकल स्टाफ भी शामिल है। प्रधानमंत्री मोदी टीका लगवाने वाले लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से वार्ता भी करेंगे। उन्होंने बताया कि को-विन पोर्टल पर सभी स्वास्थ्य कर्मियों की जानकारी अपडेट कर दी गई है। कर्मचारियों को एसएमएस के माध्यम से सूचना मिलना शुरू हो गई है। जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग मिलकर इस अभियान को सफल बनाएंगे। शनिवार को टीकाकरण के दिन कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों टीके लगाए जाएंगे। इसके बाद दूसरी डोज 28 दिन बाद दी जाएगी। दोनों डोज लगने के 14 दिन बाद शरीर में कोरोनावायरस के प्रति प्रतिरक्षण पैदा होगा। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश को तीन दिन में अब तक 10.75 लाख वैक्सीन मिल चुकी है। अभी 25 हजार वैक्सीन और मिली है। अभी तक कोविशील्ड की 10.55 लाख डोज और कोवैक्सीन की 20 हजार डोज मिली हैं। उन्होंने बताया कि टीकाकरण में प्रदेश में आम व खास का कोई मतलब नहीं है। चाहे कोई भी जितना भी प्रभावशाली हो टीकाकरण के निर्धारित चरणों से अनुसार ही वैक्सीन लगाने का कार्य किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित कमेटी से खुश नहीं किसान, लेकिन जारी रखेंगे बातचीत

उन्होंने बताया कि पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों, दूसरे चरण में फ्रंटलाइन वर्कर्स, तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और फिर 50 वर्ष से कम आयु के उन लोगों को जो किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं उन्हें टीका लगाया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि पहले चरण में नौ लाख स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगाई जानी है और इसे तीन दिन में पूरा करने की तैयारी है। प्रदेश में टीकाकरण के लिए कुल 1,500 केन्द्रों में से पहले दिन 317 केन्द्रों पर टीकाकरण होगा। बड़े शहरों में जरूरत के अनुसार इसकी संख्या बढ़ाई भी जा सकती है। सभी सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों के नौ लाख स्वास्थ्य कर्मियों को तीन दिन में टीका लगाने की तैयारी की गई है। यहां हफ्ते में दो दिन सोमवार व शुक्रवार को वैक्सीन लगाने की तैयारी है। प्रदेश में सभी टीकाकरण केन्द्रों पर प्रत्येक सत्र में पांच कर्मचारी मौजूद रहेंगे। इसमें दो पुलिस कर्मी, एक जांचकर्ता, एक वैक्सीनेटर और एक मोबिलाइजर तैनात किया जाएगा। टीकाकरण के हर केंद्र पर दो वैक्सीन कैरियर और प्रत्येक में चार कंडीशनिंग आइसपैक, लाभार्थियों की संख्या के अनुसार वैक्सीन, एडी सिरिंज, हब कटर, वायल ओपनर व एनाफाइलेक्सिस किट मौजूद रहेगी।