इस NGO ने बाइक को बनाया ऐम्‍बुलेंस, बुजुर्गों को देते हैं सेवा

दुनियाभर में वैसे तो कई अस्पताल है जहाँ गरीबो को मुफ्त में इलाज मिल जाता है लेकिन उनके पास वहां तक पहुंचने के लिए कई बार सेवाएं नहीं होती है और कोई सुविधा नहीं होती है. इसी के साथ उनके लिए ऐम्‍बुलेंस की सुविधा भी नहीं होती है जिसके कारण उनकी मौत हो जाती है. ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे एनजीओ के बारे में बताने जा रहे हैं जिहोने बाइक ऐम्‍बुलेंस सेवा शुरू की है. जी हाँ, यह सेवा खासकर बुजुर्गों के लिए है. मिली जानकारी के मुताबिक रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर गुजारा करने वाले अनूप जी की उम्र 72 साल है.

वह बीते दिनों जख्मी हो गए थे तब आसपास के लोगों ने ऐम्‍बुलेंस को कॉल किया. काफी समय तक ऐम्‍बुलेंस नहीं आई लेकिन इसी बीच लोगों ने Human Rights Organisation of Good Samaritans India के डायरेक्टर और फाउंडर जॉर्ज राकेश बाबू को कॉल किया. वहीं उन्होंने बाइक ऐम्‍बुलेंस उठाई और वहां के लिए निकल गए. उसके बाद बाइक ऐम्‍बुलेंस के जरिए ही उन्होंने अनूप को अस्पताल पहुंचाया गया और उनकी जान बचाई गई. मिली खबर के मुताबिक शहर में व्यस्त सड़कों और गलियों में ऐम्‍बुलेंस को पहुंचते-पहुंचते देर हो जाती है इसी कारण से HROGS एनजीओ ने बाइक ऐम्‍बुलेंस सर्विस शुरू की है.

अब तक यह केवल हैदराबाद में है और एक ही बाइक ऐम्‍बुलेंस है, लेकिन इसकी संख्या जल्द ही बढ़ाने के लिए एनजीओ काम कर रहा है. आपको बता दें कि पहले पहल इस एनजीओ का काम सड़क पर रहने वाले लोगों को रहने के लिए शेल्टर उपलब्ध करवाने तक सीमित ही था और इसके अलावा एनजीओ ने एक वृद्धाश्रम भी खोल दिया है.